Sukanya Samriddhi Account Scheme Eligibility, Interest Rate, Benefits

Spread the love

Sukanya Samriddhi Account Scheme Eligibility, Interest Rate, Benefits : हमारे देश में बेटी को लक्ष्मी का रूप माना जाता हैं | पुत्री जन्म के साथ परिवार में ख़ुशी की एक लहर फेल जाती हैं | जैसे ही वो अपने पांवो पर खड़ा होकर चलने लगती हैं | आप सोचना भी शुरू कर देते हैं कि इसके बड़े होने पर यह पढ़ेगी कैसे | इसकी शादी कैसे करेंगे | शादी का खर्च कहा से आएगा | यही सभी प्रश्न आपके मन में चलने लगते हैं | आज इस देश में गिरता लिंगानुपात एक प्रमुख समस्या बना हुआ हैं | एक महामारी के रूप में यह दिनोंदिन बढ़ता जा रहा हैं | इसी को प्रभावी रूप से कम करने के लिए इस योजना को लागु किया गया हैं |

To read this post in English, click on the following link :- Click Here

सुकन्या समृद्धि खाता (गर्ल चाइल्ड प्रॉस्पेरिटी अकाउंट) भारत सरकार की समर्थित बचत योजना है | यह योजना बालिकाओं के माता-पिता को लक्षित करते हुए है। योजना माता-पिता को बेटी के भविष्य की शिक्षा को सुरक्षित करती है | इसी के साथ बेटियों के लिए शादी के खर्च के लिए एक फंड निर्माण के लिए प्रोत्साहित करती है | इस योजना को माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी 2015 को बेटी बचाओ, बेटी पढाओ अभियान के एक भाग के रूप में शुरू किया था |

साथ ही यह योजना टैक्स सेविंग के अंतर्गत भी आती है | यह योजना इनकम टैक्स की धारा 80 C के तहत आती है | इस योजना के अंतर्गत वर्तमान में 250 रूपए से लेकर 150000 रुपए तक का भुगतान जमा किया जा सकता हैं |

योजना के लिए पात्रता :-

  • भारत का नागरिक होना आवश्यक है |
  • माता – पिता अथवा कानूनी रुप से अभिभावक द्वारा बालिका शिशु के जन्म से लेकर 10 वर्ष की आयु प्राप्‍त करने तक बालिका शिशु के ही नाम से खाता खोला जा सकता हैं |
  • जमाकर्ता व्यक्ति योजना नियमावली के अंतर्गत बालिका शिशु के नाम पर केवल एक ही खाता खोल सकता है और उसे संचालित कर सकता है।
  • बालिका शिशु के माता – पिता अथवा कानूनी अभिभावक को केवल दो बालिका शिशुओं के लिए खाता खोलने की अनुमति प्रदान की जा सकती है।
  • बालिका शिशु के नाम पर तीसरा खाता यदि दूसरे जन्म के रूप में जुड़वां बालिकाओं का जन्‍म होने पर अथवा पहले जन्म में ही तीन बालिकाओं का जन्‍म होने पर खोला जा सकता है।

योजना (Sukanya Samriddhi Account Scheme) में खाता खोलना :-

  • खाता अभिभावक द्वारा उस बालिका के नाम से खोला जायेगा |
  • खाता खोलने की तिथि को बालिका की अधिकतम आयु दस वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए |
  • प्रत्येक खाताधारक का इस योजना के तहत अधिकतम एक ही खाता होगा।
  • खाता खोलने के लिए फॉर्म -1 में आवेदन बालिका के जन्म प्रमाण पत्र के साथ होगा | जिसके नाम पर खाता खोला जाना है | इसके साथ अभिभावक के भी आवश्यक दस्तावेजों सलग्न किये जायेंगे |
  • इस योजना केअनुसार एक परिवार में अधिकतम दो बालिकाओं / पुत्री संतान के लिए खाता खोला जा सकता है |
  • खाता आप किसी भी राष्ट्रीय बैंक अथवा पोस्ट ऑफिस में खुलवा सकते हैं |

Sukanya Samriddhi Account Scheme आवश्यक दस्तावेज :-

  • सुकन्‍या समृद्धि योजना का खाता खोलने का निर्धारित प्रपत्र
  • बालिका शिशु का जन्म प्रमाण पत्र
  • पहचान का प्रमाण – प्रमाण (केवाईसी दिशानिर्देशों के अनुसार)
  • निवास का प्रमाण – प्रमाण
  • नवीनतम फोटो

योजना से सम्बन्धित वीडियो देखने के लिए यहाँ नीचे क्लिक करे :-

योजना (Sukanya Samriddhi Account Scheme) की विशेषताएं :-

  • आकर्षक ब्याज दर वित्त मंत्रालय द्वारा समय-समय पर विनियमित की जाती है।
  • एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम रु. 1,000 तक का निवेश आप द्वारा किया जा सकता है।
  • एक वित्तीय वर्ष में रु. 1, 50,000 तक का अधिकतम निवेश आप द्वारा किया जा सकता है।
  • खाता खोलने की तिथि से लेकर 14 वर्ष पूरे होने तक खाते में पैसे जमा किए जा सकते हैं।
  • खाता खोलने की तिथि से लेकर 21 वर्ष पूरे होने पर खाता परिपक्व होगा | यहाँ पर एक शर्त यह है कि यदि खाताधारक बालिका का विवाह 21 वर्ष की अवधि पूर्ण होने से पहले हो जाएं, कर दिया जाएं | तब उसके विवाह के दिनांक से आगे खाते के संचालन की अनुमति प्रदान नहीं की जाएगी।

योजना के लाभ :-

सुकन्‍या समृद्धि योजना में निवेश को धारा 80C के अंतर्गत आय कर से छूट भी मिलती है। यह धारा योजना के अंतर्गत तिहरे कर छूट शासन के अंतर्गत कर लाभ की पेशकश करती है। अर्थात् इस योजना में मूलधन, ब्याज और बहिर्वाह सभी को कर से छूट प्रदान की जाती है।

आहरण की सुविधा :-

उच्च शिक्षा एवं विवाह के प्रयोजन हेतु खाताधारक की वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, खाताधारक 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद आंशिक आहरण सुविधा का लाभ इस योजना के अंतर्गत उठा सकते हैं।

आर्टिकल जिनमें आपकी रुचि हो सकती है :-

योजना (Sukanya Samriddhi Account Scheme) में जमा :-

  • योजना के तहत खाता 250 रुपये की न्यूनतम प्रारंभिक जमा राशि के साथ खोला जा सकता है |
  • उसके बाद पचास रुपये के गुणक में राशि आप कभी भी जमा कर सकते है | इसके लिए कोई अलग से नियम नहीं हैं | लेकिन न्यूनतम जमा के लिए शर्त के अधीन कुल राशि 250 रुपये होनी आवश्यक होगी ।
  • एक खाते में एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम एक बार राशि जमा की जानी आवश्यक होगी | ताकि खाते को जारी रखा जा सकें |
  • किसी खाते में जमा की गयी कुल राशि एक वित्तीय वर्ष में एक लाख पचास हजार रुपये से अधिक की नहीं होगी |
  • राशि खाता खोलने की तारीख से लेकर पंद्रह वर्ष की अवधि पूर्ण होने तक खाते में जमा की जा सकती हैं।

एक खाता जिसमें निर्दिष्ट न्यूनतम राशि जमा नहीं की जाती है | उसे निम्नलिखित खातों के रूप में माना जाएगा –

  • बशर्ते कि डिफ़ॉल्ट के तहत एक खाते को किसी भी समय आप द्वारा नियमित किया जा सकता है | पंद्रह वर्ष की अवधि पूरी होने के बाद से डिफ़ॉल्ट के प्रत्येक वर्ष के लिए पचास रुपये के आर्थिक दंड तथा कुल न्यूनतम राशि के भुगतान पर खाता खोलने की अनुमति होगी |
  • डिफ़ॉल्ट के तहत एक खाते के मामले में, ऊपर शर्त के तहत निर्दिष्ट समय के भीतर नियमित नहीं किया जाता है, तो पूरी जमा राशि, डिफ़ॉल्ट तिथि से पहले तक किए गए जमा सहित, दर पर ब्याज के लिए पात्र होगी।

योजना के तहत जमा पर ब्याज :-

  • ब्याज की गणना प्रत्येक कैलेंडर माह के लिए पांचवें दिन की समाप्ति तथा महीने के अंत के बीच के खाते में जमा सबसे कम शेष राशि पर की जाएगी।
  • ब्याज प्रत्येक वित्तीय वर्ष के अंत में आपके खाते में जमा किया जाएगा |

आज तक योजना के तहत ब्याज की दरें इस प्रकार से रही है –

Date RangeInterest
Rate
Minimum
Investment
Maximum
Investment
1 April 2014 to 31 March 20159.1 %1000150000
1 April 2015 to 31 March 20169.2 %1000150000
1 April 2016 to 30 Sep 20168.6 %1000150000
1 Oct 2016 to 31 Mar 20178.5 %1000150000
1 April 2017 to 30 June 20178.4 %1000150000
1 July 2017 to 31 December 20178.3 %1000150000
1 January 2018 to 31 March 20188.1 %1000150000
1 April 2018 to 30 September 20188.1 %250150000
1 October 2018 to 31 March 20198.5 %250150000
1 April 2019 to 30 June 20198.5 %250150000
1 July 2019 to 31 March 20208.4 %250150000

खाते का संचालन :-

खाताधारक बालिका के अठारह वर्ष की आयु प्राप्त करने तक खाता अभिभावक के द्वारा संचालित किया जाएगा। खाताधारक द्वारा आवश्यक दस्तावेजों को जमा करके अठारह वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद खाता स्वयं संचालित किया जाएगा।

योजना में समय से पहले खाता बंद करना :-

  • खाताधारक की मृत्यु की स्थिति में, खाता, फॉर्म -2 में आवेदन करने पर तुरंत बंद कर दिया जाएगा | सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी किए गए मृत्यु प्रमाण पत्र प्रति सलग्न करनी आवश्यक है | खाते के क्रेडिट पर शेष राशि और उसके कारण ब्याज मृत्यु की तारीख तक अभिभावक को अदा की जाएगी।
  • खाता धारक की मृत्यु और खाते के बंद होने की तारीख के बीच की अवधि के लिए ब्याज का भुगतान डाकघर बचत खाते पर लागू दर पर खाते में रखे गए शेष के लिए किया जाएगा।
  • खाताधारक की जीवन-धमकाने वाली बीमारियों में चिकित्सा सहायता के लिए अथवा अभिभावक की मृत्यु होने के कारण खाते के संचालन या निरंतरता के कारण खाता धारक को अनुचित कठिनाई का सामना करना पड़ता हो | इस तरह के बंद करने हेतु, आदेश द्वारा और लिखित रूप में दर्ज किए जाने वाले कारणों के कारण पूर्ण प्रलेखन स्थापित करने के बाद, खाते को समय से पहले बंद करने की अनुमति हो सकती है।
  • यहाँ भी ब्याज के लिए ऊपरी शर्तें ही प्रभावी होंगी |
  • इस शर्त के अधीन खाता खोलने की तारीख से पांच साल पूरा होने से पहले खाते को बंद नहीं किया जाएगा।

धन की निकासी :-

  • फॉर्म -3 में एक आवेदन करने पर, अधिकतम पचास प्रतिशत तक की जमा राशि की निकासी संभव होगी ।
  • निकासी के लिए आवेदन के वर्ष से पहले के वित्तीय वर्ष के अंत में खाते में शेष राशि आधार माना जाएगा |
  • यहाँ पर निकासी के लिए खाताधारक को अठारह वर्ष की आयु प्राप्त करने या दसवीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद जो भी पहले हो अनुमति दी जाएगी |
  • निकासी के लिए आवेदन एक शैक्षणिक संस्थान में खाता धारक के प्रवेश की पुष्टि होने पर अथवा इस तरह की वित्तीय आवश्यकताओ का संकेत देने वाली संस्था से शुल्क-पर्ची के रूप में प्रमाण देने पर होगा |

खाते की परिपक्वता :-

  • खाता खुलवाने की तारीख से इक्कीस वर्ष की अवधि पूर्ण होने पर परिपक्व होगा।
  • इसके लिए खाता धारक द्वारा फॉर्म -4 में आवेदन करने पर लागू ब्याज के साथ बकाया राशि खाता धारक को देय होगी।
  • योजना में खाता बंद करने की अनुमति इक्कीस वर्ष से पहले भी दी जा सकती है | यदि खाता धारक का विवाह हो गया हो | वह इस आशय का घोषणा पत्र प्रस्तुत करता हैं | इसी के साथ खाता बंद करने का अनुरोध करता है |
  • घोषणा – पत्र गैर-न्यायिक स्टांप पेपर पर होना चाहिए, जो आयु के प्रमाण के नोटरी द्वारा सत्यापित किया गया चाहिए | जिसमे यह आशय होगा कि आवेदक शादी की तारीख को अठारह वर्ष से कम आयु का नहीं हैं |
  • इस तरह के किसी भी खाते को बंद करने की अनुमति शादी की तारीख से एक महीने से पहले तथा शादी की तारीख से तीन महीने बाद नहीं दी जाएगी |

Download the Calculation Sheet : Click Here

Leave a Comment

error: Content is protected !!