Smile 2.0 Program | Aao Ghar Me Sikhe Full Details

Spread the love

हैलो दोस्तों, जैसा कि आप जानते हैं कि हमारी टीम हमेशा आपके लिए क्वालिटी कंटेंट लेकर आती हैं | आज के इस आर्टिकल में हम Smile 2 के अंतर्गत चलाये जा रहे “आओ घर में सीखें” कार्यक्रम पर चर्चा करने वाले हैं |

दोस्तों आप सभी जानते हैं कि जब भी कोई योजना या कार्यक्रम सरकार के द्वारा चलाया जाता हैं | तब वह केवल आदेश मात्र से शुरू नहीं हो जाता हैँ | उसके लिए प्रत्येक स्तर पर जवाबदेहीता तय की जाती हैं | इसी के साथ प्रत्येक स्तर पर मॉनिटरिंग की भी व्यवस्था की जाती हैं | ऐसा ही कुछ Smile 2.0 में भी हैं |

सबसे पहले बात करू कि Smile 2.0 नाम कहाँ से आया | इसके लिए बात करू तो सरकार की ओर से मार्च 2020 में कोरोना के कारण विद्यालय बंद करवा दिए गए थे | तब विभाग ने ऑनलाइन कक्षाएं शुरू की थी, जिन्हे Smile कार्यक्रम के नाम से जाना जाता था | तब इसमें ऑनलाइन लिंक प्राप्त होता एवं आगे विद्यार्थियों को शेयर कर दिया जाता था | इसमें होमवर्क की व्यवस्था नहीं थी |

अब जब लम्बे अंतराल के बाद भी विद्यालय नहीं खुले | तब एक डर यहाँ पर सताने लगा कि कहीं इस सत्र को ही जीरो नहीं घोषित करना पड़ जाये | तब इस पुराने कार्यक्रम में कुछ बदलाव किया गया तथा होमवर्क की भी व्यवस्था कर दी गयी | अब इस कार्यक्रम को Smile 2.0 के नाम से जाना जाने लगा | लेकिन ग्रामीण इलाको में बच्चों के पास प्रिंट की सुविधा नहीं हैं, तो इसके लिए भी विद्यालयों को ही जिम्मेदारी दी गयी है | स्माइल 2.0 के तहत नवीन पहल के रूप में “आओ घर में सीखें” कार्यक्रम भी संचालित किया जा रहा हैं |

इसके तहत कुछ महत्वपूर्ण कार्य निम्नानुसार हैं –

  • शिक्षकों द्वारा विद्यार्थियों को कॉल करना |
  • क्विज में विद्यार्थियों की भागीदारी |
  • गृहकार्य |
  • विद्यार्थी तक पहुंच का प्रपत्र |

चलिए अभी अपने इन सभी पर चर्चा कर लेते हैं –

शिक्षकों द्वारा विद्यार्थियों को कॉल करना :-

  • सप्ताह के प्रत्येक सोमवार को वीडियो लिंक के माध्यम से अध्ययन सामग्री उपलब्ध करवाई जाती हैं | इसी के साथ गृहकार्य भी लिंक उपलब्ध करवाया जाता हैं | जिसकी मॉनिटरिंग PEEO, CBEEO एवं CDEO स्तर पर की जाती हैं |
  • टेक्नोलॉजी का सहारा लेते हुए प्रत्येक बुधवार को रिपोर्ट प्राप्त करने की व्यवस्था की गयी हैं |
  • समय – समय पर CDEO इसके लिए अपने जिले के सभी CBEEO तथा PEEO के साथ VC भी आयोजित करेंगे | ताकि अन्य किसी प्रकार की समस्याओ पर भी चर्चा की जा सकें |
  • निदेशालय स्तर पर प्रत्येक माह के अंतिम बुधवार को “आओ घर में सीखें” की जिला समीक्षा बैठक का भी आयोजन किया जायेगा |
  • निदेशालय द्वारा उन जिलों को कॉल किया जाता हैं जिनकी प्रगति 25 % से न्यून हैं |
  • उन जिलों को नोटिस जारी करना जिनकी प्रगति 15 % से कम हैं |

क्विज में विद्यार्थियों की भागीदारी :-

  • बच्चों की उपस्थिति 100 % सुनिश्चित करने के लिए शिक्षकों को प्रयास करने होंगे |
  • whatsapp द्वारा प्रत्येक बुधवार एवं शुक्रवार को रिपोर्ट अपलोड करना |
  • न्यून प्रतिशत होने पर CDEO फिल्ड VC का आयोजन भी करेंगे, ताकि प्रतिशत में वृद्धि दर्ज की जा सके |
  • प्रत्येक माह के अंतिम बुधवार को इसकी समीक्षा बैठक भी निदेशालय स्तर पर आयोजित की जाएंगी |
  • प्रति सप्ताह जिन जिलों की प्रगति 10 % प्रतिशत से न्यून हैं, उनको कॉल किये जाने की व्यवस्था निदेशालय स्तर पर की गयी हैं |
  • जिन जिलों की प्रगति 5 % से कम हैं उनके खिलाफ नोटिस भी जारी किये जायेंगे |
  • प्रत्येक माह के दूसरे बुधवार को निदेशक महोदय “आओ घर में सीखें” (AGMS) कार्यक्रम के तहत राज्य स्तरीय समीक्षा करेंगे |

गृहकार्य की क्रियानिवति :-

  • प्रति सप्ताह प्रत्येक सोमवार को गृहकार्य विद्यार्थियों को दिया जायेगा |
  • प्रत्येक मंगलवार को whatsapp द्वारा गृहकार्य रिपोर्ट साँझा करना |
  • निदेशालय द्वारा आवश्यकता के आधार पर कॉल करना |
  • निदेशालय द्वारा न्यून प्रगति के आधार पर नोटिस जारी करना |

विद्यार्थी तक पहुंच का प्रपत्र (स्टूडेंट रीच फॉर्म) :-

  • यह प्रपत्र केवल एक बार ही भरना हैं |
  • PEEO महोदय द्वारा सभी विद्यालयों से सुचना प्राप्त करनी हैं, कि कितने Whatsapp ग्रुप बनाये गए हैं |
  • ब्लॉक स्तर पर CBEEO द्वारा whatsapp ग्रुप का निर्माण करना हैं |
  • प्रतिदिन ग्रुप द्वारा CBEEO एवं PEEO द्वारा ग्रुप में प्रगति भी दर्ज करवाई जाएगी |

Articles May Be Help You :-

Download Portfolio Excel Sheet : Click Here

Leave a Comment

error: Content is protected !!